विज्ञापन के मजे-हिंदीशायरी


रुपहले पर्दे पर
इधर नायक उधर खलनायक
खड़ा कर दिया।
 
चंद पल का नाटक
शब्द के जाल बुनकर
बड़ा कर दिया।
 
कहें दीपकबापू प्रचार पर
चल रहा संसार
विज्ञापन के मजे ने
बढ़ा दी मन की भूख
रोटी को कड़ा कर दिया।
————
लेखक एवं कवि-दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप,
ग्वालियर मध्यप्रदेश
writer and poem-Deepak Raj Kukreja “”Bharatdeep””
Gwalior, madhyapradesh
कवि, लेखक एवं संपादक-दीपक ‘भारतदीप’,ग्वालियर
poet, Editor and writer-Deepak  ‘Bharatdeep’,Gwalior
http://deepkraj.blogspot.com
————————-

यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘शब्दलेख सारथी’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका 

५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका

Advertisements