रहस्य-हिन्दी शायरी


दौलत, शौहरत और ताकत का नशा
भले चंगे को रास्ते से भटका देता है,
शिखर पर पहुंचे हैं जो दरियादिल
उनसे जज़्बाती हमदर्दी का उम्मीद करना
बेकार है,
क्योंकि हो जाते हैं उनके सपने पूरे
पर दर्द के अहसास मर जाते हैं।

हाथ फैलायें खड़े हैं नीचे
उनसे दया की आशा करने वाले
कल यदि वह भी
छू लें आकाश तो
वैसे ही हो जायेंगे,
इस दुनियां में चलती रहेगी यह अनवरत जंग
मगरमच्छ के आहार के लिये
मछलियों को पालता है समंदर,
शिकार और शिकारी
शोषक और शोषित
और स्त्री पुरुष दोनों का होना जरूरी है शायद
सर्वशक्तिमान का रहस्य हम कहां समझ पाते हैं।
————–

कवि, लेखक एंव संपादक-दीपक भारतदीप,Gwalior
यह कविता/आलेख रचना इस ब्लाग ‘हिन्द केसरी पत्रिका’ प्रकाशित है। इसके अन्य कहीं प्रकाशन की अनुमति लेना आवश्यक है।
इस लेखक के अन्य ब्लाग/पत्रिकायें जरूर देखें
1.दीपक भारतदीप की हिन्दी पत्रिका
2.दीपक भारतदीप की अनंत शब्दयोग पत्रिका
3.दीपक भारतदीप का  चिंतन
4.दीपक भारतदीप की शब्दयोग पत्रिका
5.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान का पत्रिका

2 Comments

  1. इस दुनियां में चलती रहेगी यह अनवरत जंग
    मगरमच्छ के आहार के लिये
    मछलियों को पालता है समंदर,
    शिकार और शिकारी
    शोषक और शोषित
    और स्त्री पुरुष दोनों का होना जरूरी है शायद
    सर्वशक्तिमान का रहस्य हम कहां समझ पाते हैं।——एक ध्रुव सत्य का सटीक वर्णन.

  2. Kavita likhna ek dussaahas hai.Kyon?Is liye ke kavita karana har ek ke bus ki baat nahin.Jis tarah se shareer main aatma hoti hai usi tarah se kavita main bhaav haote hain,jaise ek shareer ki sudolta aavashyak hai usi tarah se kavita main bhi chhand ya laya hona zaroori hai. Ek gadya ko chote chote tukadon main tod tad kar dus bees panktiyon ki “KAVITA-NAZM’ bana lena ……….tippani nahi karna hi theek rahega.Bhai sahab achche bhavon ke saath shabdon ka achha kalever bhi hota to maza aa jata.Be tuki AGYEYA brand kavitayen bahumoolya kitabon main chhap kar abhijatya varg ke logo ki library ki shobha aur ahamkar to badha sakti hai par aam log us kavya aur kavi ko kabhi yaad bhi nahin karte .Karen bhe kyun? Aisa unhonne dilchasp likha hi kya hai.Kavita aise likho ki sab ye soche ke yeh to main bhi likh sakta hoon aur jab lilkhne ko baithe to likh na sake.MEERA,TULSI,KABEER,RAHEEM,RASKHAN,SAHIR,NIDA FAZLI,BASHEER BADR,SHEEN KAAF NIZAM,MUNAWWAR RANA,aam logon ki zaban main likh kar dilon main jame baithe hain.Shabdon ki baazigari ka naam shayari nahin.Shayari{kavya}to machhli ki tairaki hai,panchi ki udan hai jis main ek sahajta hoti hai.Tairata to aadmi bhi hai par machhli ki sahajta nahin,udata to patang bhi hai par apane pankhon se nahin.Dor kati ki patang luti.SAHITYA ki seva bada dharm hai kala{kavya} viheena pashubhirsamana, aap sahitya ki seva ka jazba man main liye hain is liye mera sadhuvaad sweekaren. KEEP IT UP. NAMASKAR.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s